मातृ (ऋकारान्त स्त्रीलिंग) शब्द रूप | Matri Shabd Roop – Rikarant Striling

मातृ (ऋकारान्त स्त्रीलिंग) शब्द रूप | Matri Shabd Roop – Rikarant Striling – इस भाग में मातृ संज्ञा शब्द के रूप के बारे में बताया गया | जिस पर आपकी समझ बनने के बाद आप अन्य संज्ञा शब्दों के भी आसानी से शब्द रूप बना पाओगे |

शब्द रूप बनाने के विशेष नियम –

  1. सर्वनाम शब्दों के संबोधन न होने के कारण उनके संबोधन रूप नहीं चलते |
  2. संबोधन में प्रथमा विभक्ति का प्रयोग होता है | Matri Shabd Roop
  3. यदि र् या ष् के बाद आता है तो उस न् को हो जाता है |
  4. संबोधन में हृ, ए,ओ यदि अंत में हो तो अंग के बाद में प्रथमा के एकवचन अर्थात् सु प्रत्यय का लोप होता है |

मातृ (ऋकारान्त स्त्रीलिंग) शब्द रूप (Matri Shabd Roop) –

विभक्तिएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमामाता मातरौ मातर:
द्वितीयामातरम्मातरौमातृन्
तृतीयामात्रामातृभ्याम्मातृभि:
चतुर्थीमात्रेमातृभ्याम्मातृभ्य:
पंचमीमातु:मातृभ्याम्मातृभ्य:
षष्ठीमातु:मात्रो:मातृणाम्
सप्तमीमातरिमात्रो:मातृषु
संबोधनहे मात: !हे मातरौ !हे मातर: !
मातृ (ऋकारान्त स्त्रीलिंग) शब्द रूप

Read Also : Sanskrit Grammar

लिख् धातु रूप (लिखना) सभी लकार संस्कृत में

दोस्तों, अगर आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करें और आपको किसी भी शब्द के शब्द रूप चाहिए तो हमें कमेंट करके जरुर बताएं हम आपको उस शब्द के शब्द रूप अवश्य उपलब्ध करवाएंगे |

Leave a Comment

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: