REET 2022 लेवल प्रथम का नया सिलेबस जारी, यहाँ से देखे पूरा सिलेबस

REET 2022 Level- I Syllabus | REET 2022 First Paper New Syllabus – दोस्तों, इस भाग में आपको REET 2022 First Paper New Syllabus (लेवल – प्रथम) के बारे में पूर्ण और विस्तारपूर्वक जानकारी मिलेगी |

REET 2022 का सिलेबस (REET 2022 First Paper New Syllabus) –

इस भाग में आपको रीट 2022 के नए सिलेबस के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिलेगी और मुख्य तथा सभी सब्जेक्ट में शामिल होने वाले टॉपिक्स को हाईलाइट किया जायेगा ताकि आप उनका अध्ययन करके अपनी योग्यता रीट के मुख्य पेपर के लिए दर्शा सके |

रीट 2022 में होना प्रथम पेपर केवल योग्यता अर्जित करने के लिए है तथा इसके अर्जित किये गये अंकों का रीट के मुख्य पेपर में कोई फर्क नही पड़ेगा और ना ही ये अंक मुख्य परीक्षा में जुड़ेंगे |

इस परीक्षा में किसी भी प्रकार का नकारात्मक अंकन नही किया जायेगा |

निम्न सरणी में दिए गये विषय रीट के प्रथम पेपर में पूछे जायेंगे –

विषय प्रश्नों की संख्या अंक
बाल विकास एंव शिक्षाशास्त्र 3030
भाषा प्रथम ( हिंदी, संस्कृत, उर्दू, सिन्धी, गुजरती, अंग्रेजी )3030
भाषा द्वितीय ( हिंदी, संस्कृत, उर्दू, सिन्धी, गुजरती, अंग्रेजी )3030
गणित 3030
पर्यावरण अध्ययन3030
कुल 150150
REET 2022 का सिलेबस

बाल विकास एंव शिक्षाशास्त्र –

  • बाल विकास
    • वृद्धि एवं विकास की संकल्पना,
    • विकास के विभिन्न आयाम एवं सिद्धान्त,
    • विकास को प्रभावित करने वाले कारक (विशेष रूप से परिवार एवं विद्यालय के संदर्भ में) एवं अधिगम से उनका संबंध
    • वंशानुक्रम एवं वातावरण की भूमिका
  • व्यक्तिगत विभिन्नताएँ –
    • अर्थ प्रकार एवं व्यक्तिगत विभिन्नताओं को प्रभावित करने वाले कारक |
  • व्यक्तित्व
    • व्यक्तित्व संकल्पना प्रकार व व्यक्तित्व को प्रभावित करने वाले कारक |
    • मापन ( व्यक्तित्त्व ) |
  • बुद्धि
    • संकल्पना, सिद्धाना एवं इसका मापन, बहुबुद्धि सिद्धान्त एवं इसके निहितार्थ |
  • विविध अधिगमकर्ताओं की समझ
    • पिछडे, विमंदित, प्रतिभाशाली, सृजनशील अलाभान्वित-वचित विशेष आवश्यकता वाले बच्चे एवं अधिगम अक्षमता युक्त बच्चे।
    • अधिगम में आने वाली कठिनाइयों |
    • समायोजन की संकल्पना एवं तरीके, समायोजन में अध्यापक की भूमिका |
  • अधिगम का अर्थ एवं संकल्पना |
    • अधिगम को प्रभावित करने वाले कारक |
    • सिद्धान्त एवं इनके निहितार्थ |
    • बच्चे सीखते कैसे है? अधिगम की प्रक्रिया, चिंतन, कल्पना एवं तर्क |
    • अभिप्रेरणा व इसके अधिगम के लिए निहितार्थ |
  • शिक्षण अधिगम की प्रक्रियाएं राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा-2005 के संदर्भ में शिक्षण अधिगम की व्यूह रचना एवं विधियाँ
  • आकलन मापन एवं मूल्यांकन का अर्थ एवं उद्देश्य समग्र एवं सतत् मूल्यांकन उपलब्धि परीक्षण का निर्माण सीखने के प्रतिफल
  • क्रियात्मक अनुसन्धान
  • शिक्षा का अधिकार अधिनियम-2009 अध्यापकों की भूमिका एवं दायित्व

भाषा प्रथम ( हिंदी ) –

  • एक अपठित गद्यांश में से निम्नलिखित व्याकरण संबंधी प्रश्न-
    • पर्यायवाची,
    • विलोम,
    • वाक्याशों के लिए एक शब्द,
    • शब्दार्थ,
    • शब्द शुद्धि
    • उपसर्ग,
    • प्रत्यय,
    • संधि और समास
    • संज्ञा, सर्वनाम
    • विशेषण अव्यय
  • एक अपठित गद्यांश में से निम्नलिखित बिंदुओं पर प्रश्न-
    • रेखांकित शब्दों का अर्थ स्पष्ट करना,
    • वचन,
    • काल,
    • लिंग ज्ञात करना
    • दिए गए शब्दों का वचन काल और लिंग बदलना ।
  • वाक्य रचना,
  • वाक्य के अंग वाक्य के प्रकार, पदबंध।
  • मुहावरे और लोकोक्तियाँ, विराम चिह्न।
  • भाषा की शिक्षण विधि, भाषा शिक्षण के उपागम, भाषा दक्षता का विकास ।
  • भाषायी कौशलों का विकास (सुनना, बोलना, पढना, लिखना) हिंदी भाषा शिक्षण में चुनौतियाँ, शिक्षण अधिगम सामग्री, पाठ्य पुस्तक, बहु- माध्यम एवं शिक्षण के अन्य संसाधन ।
  • भाषा शिक्षण में मूल्यांकन, उपलब्धि परीक्षण का निर्माण समग्र एवं सतत् मूल्यांकन, उपचारात्मक शिक्षण |

बहु विकल्प प्रश्नों का मापदण्ड कक्षा 1 से 5 तक के राज्य सरकार द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम सत्र 2021-22 पाठ्य पुस्तकों एवं पाठ्य वस्तु के आधार पर होगा, लेकिन कठिनाई का स्तर सैकण्डरी (कक्षा 10 ) तक की पाठ्य पुस्तकों का होगा।

भाषा द्वितीय ( अंग्रेजी ) –

  • Unseen Prose Passage –
    • Linking Devices,
    • Subject-Verb Concord,
    • Inferences.
  • Unseen Poem
    • Identification of Alliteration,
    • Simile,
    • Metaphor Personification,
    • Assonance,
    • Rhyme.
  • Modal Auxiliaries, Common Idioms and Phrases Literary Terms Elegy, Sonnet, Short Story, Drama.
  • Basic knowledge of English Sounds and symbols.
  • Principles of Teaching English, Communicative Approach to English Language Teaching,
  • Challenges of Teaching English: Difficulties in learning English (role of home language, multilingualism).
  • Methods of Evaluation, Remedial Teaching

The criteria for multiple choice questions will be based on the syllabus prescribed by the State Government for classes 1 to 5 and the text books prevailing in the current academic session 2021-22, but difficulty level of the questions will be up to the secondary (class 10) text books.

गणित (REET 2022 First Paper New Syllabus) –

  • एक करोड़ तक की पूर्ण संख्याएँ स्थानीय मान, तुलना, गणितीय मूल संक्रियाएँ -जोड़, बाकी, गुणा, भाग भारतीय मुद्रा|
  • भिन्न की अवधारणा, उचित भिन्ने, समान हर वाली उचित भिन्नों की तुलना, मिश्र भिन्ने, असमान हर वाली उचित भिन्नों की तुलना भिन्नों की जोड़ बाकी, अभाज्य एवं संयुक्त संख्याएं, अभाज्य गुणनखण्ड, लघुत्तम समापवर्त्य महत्तम समापवर्तक ।
  • ऐकिक नियम औसत लाभ-हानि, सरल ब्याज।
  • समतल व वक्रतल, समतल व ठोस ज्यामितिय आकृतियाँ समतल ज्यामितीय आकृतियों की विशेषतायें बिन्दु, रेखा, किरण, रेखा खण्ड, कोण एवं उनके प्रकार लम्बाई, भार, धारिता, समय क्षेत्रमापन एवं इनकी मानक इकाइयां एवं उनमें संबंध वर्गाकार तथा आयतकार वस्तुओं के पृष्ठ तल का क्षेत्रफल एवं परिमाप
  • गणित की प्रकृति एवं तर्क शक्ति, पाठ्यक्रम में गणित की महत्ता, गणित की भाषा, सामुदायिक गणित, आंकड़ों का प्रबंधन।
  • औपचारिक एवं अनौपचारिक विधियों द्वारा मूल्यांकन, शिक्षण की समस्याएं त्रुटि विश्लेषण एवं शिक्षण एवं अधिगम से संबंधित निदानात्मक एवं उपराचारात्मक शिक्षण |

बहु विकल्प प्रश्नों का मापदण्ड कक्षा 1 से 5 तक के राज्य सरकार द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम एवं वर्तमान में प्रचलित सत्र 2021-22 पाठ्य पुस्तकों के आधार पर होगा, लेकिन कठिनाई का स्तर सैकण्डरी (कक्षा 10) तक की पाठ्य पुस्तकों का होगा।

पर्यावरण अध्ययन (REET 2022 First Paper New Syllabus) –

  • परिवार
    • आपसी संबंध,
    • एकल एवं संयुक्त परिवार,
    • सामाजिक बुराईयां (बाल विवाह, दहेज प्रथा, बालश्रम, चोरी),
    • दुर्व्यसन ( नशाखोरी, धूम्रपान) और इनके व्यक्तिगत,
    • सामाजिक एवं आर्थिक दुष्परिणाम।
  • वस्त्र एवं आवास
    • विभिन्न ऋतुओं में पहने जाने वाले वस्त्र,
    • घर पर वस्त्रों का रख-रखाव हस्त करपा तथा पावरलूम
    • जीव जन्तुओं के आवास
    • विभिन्न प्रकार के मानय आवास
    • आवास और निकटवर्ती स्थानो की स्वच्छता
    • आवास निर्माण हेतु विभिन्न प्रकार की सामग्री।
  • व्यवसाय
    • अपने परिवेश के व्यवसाय (कपड़े सिलना, बागवानी कृषि कार्य, पशुपालन, सब्जीवाला आदि),
    • लघु एवं कुटीर उद्योग
    • राजस्थान राज्य के प्रमुख उद्योग एवं हस्तकलाएं,
    • उपभोक्ता संरक्षण की आवश्यकता सहकारी समितिया।
  • हमारी सभ्यता, संस्कृति
    • राष्ट्रीय प्रतीक,
    • राष्ट्रीय पर्व,
    • राजस्थान के मेले एवं त्यौहार,
    • राजस्थान की वेशभूषा एवं आभूषण,
    • खान-पान,
    • राजस्थान की वास्तुकला,
    • राजस्थान के पर्यटन स्थल
    • प्रमुख विभूतिया एवं गौरव
    • राजस्थान की विरासत (प्रमुख दुर्ग, महल, स्मारक)
    • चित्रकला,
    • राजस्थान के लोकदेवता |
  • परिवहन और संचार
    • यातायात और संचार के साधन,
    • सड़क पर चलने और यातायात के नियम
    • यातायात के संकेत संचार साधनों का जीवन शैली पर प्रभाव |
  • अपने शरीर की देख-भाल
    • शरीर के बाहय अंग और उनकी साफ-सफाई,
    • शरीर के आंतरिक भागों की – जानकारी,
    • संतुलित भोजन की जानकारी और इसका महत्व,
    • सामान्य रोग (आंत्रशोथ, अमीबायोसिस, मेटहीमोग्लोबिन एनिमिया, पलुओरोसिस, मलेरिया, डेंगू) उनके कारण और बचाव के उपाय,
    • पल्स पोलियो अभियान|
  • सजीव जगत
    • पादपों और जंतुओं के संगठन के स्तर
    • सजीवों में विविधता
    • राज्य पुष्प राज्य गृक्ष, राज्य पक्षी, राज्य पशु
    • संरक्षित वन क्षेत्रों एवं वन्य जीव (राष्ट्रीय उद्यान, वन्य जीव अभयारण्य, बाघ संरक्षित क्षेत्र विश्व धरोहर) की जानकारी पादपों तथा जंतुओं की जातियों का संरक्षण
    • कृषि पद्धतिया |
  • जल
    • जल, वन, नमभूमि और मरूस्थल की मूलभूत जानकारी,
    • विभिन्न प्रकार के प्रदूषण एवं इनका नियंत्रण,
    • जल के गुण, जल के स्त्रोत, जल प्रबंधन
    • राजस्थान में कलात्मक जल स्त्रोत,
    • पेयजल व सिंचाई स्त्रोत |
  • हमारी पृथ्वी व अंतरिक्ष
    • सौर परिवार भारत के अंतरिक्ष यात्री |
  • पर्वतारोहण
    • पर्वतारोहण में कठिनाईयां एवं काम आने वाले औजार,
    • भारत की प्रमुख महिला पर्वतारोही।
  • पर्यावरण अध्ययन के क्षेत्र एव संकल्पना
    • पर्यावरण अध्ययन का महत्व,
    • समाकलित पर्यावरण अध्ययन पर्यावरण शिक्षा के अधिगम सिद्धान्त,
    • पर्यावरण अध्ययन का विज्ञान एवं सामाजिक विज्ञान विषयों के साथ अन्तर्सम्बन्ध एवं क्षेत्र |
  • पर्यावरणीय शिक्षा शास्त्र-
    • संकल्पना प्रस्तुतीकरण के उपागम,
    • क्रियाकलाप प्रयोग / प्रायोगिक कार्य, चर्चा
    • समग्र एवं सतत मूल्यांकन,
    • शिक्षण सामग्री/ सहायक सामग्री,
    • शिक्षण की समस्याएं सूचना एवं संचार प्रोद्यौगिकी |

बहु विकल्प प्रश्नों का मापदण्ड कक्षा 1 से 5 तक के राज्य सरकार द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम सत्र 2021-22 पाठ्य पुस्तकों एवं पाठ्य वस्तु के आधार पर होगा, लेकिन कठिनाई का स्तर सैकण्डरी (कक्षा 10) तक की पाठ्य पुस्तकों का होगा।

प्रत्येक खबर से उपडेट रहने के लिए ज्वाइन करे हमारे ग्रुप को और सब्सक्राइब करे यूट्यूब चैनल को –

READ ALSO :

REET 2022 Online Form Start : जानिये कैसे भरें ऑनलाइन फॉर्म और अन्य डिटेल

Leave a Comment

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: